Manpasand Shadi Karne Ke Upay

क्या आप मनपसंद शादी के उपाय ( Manpasand Shadi Karne Ke Upay ) जानना चाहते हैं या फिर आप मनचाहे लड़के से शादी के उपाय खोज रहे हैं तो आपकी खोज हमारी इस वेबसाइट में आकर समाप्त हो जाएगी क्योंकि हम हमारी वेबसाइट में आपको मनपसंद शादी करने के उपाय बताने के साथ-साथ मनपसंद लड़के से शादी करने के उपाय ( Manpasand Shadi Karne Ke Upay ) के बारे में बताने जा रहे हैं और ऐसी विधियों के बारे में आपको अवगत कराएंगे जिनके माध्यम से आप अपने प्रेम विवाह को संपूर्ण कर पाएंगे .

सामग्री…..
चमगादड़ का पंख
गंगाजल
लाल सिंदूर
आटे का दीपक 04
कपूर 16
लाल वस्त्र
पीला चंदन
सरसों का तेल

विधि____ अमावस्या के दिन आप चमगादड़ का पंख घर लाकर उस चमगादड़ के पंख को गंगाजल की सहायता से धो लें और उसे शुद्ध कर लें. इसके बाद आप लाल सिंदूर की सहायता से पूर्व दिशा की तरफ एक त्रिभुज की आकृति का निर्माण कर दें और उस त्रिभुज की आकृति के तीनों कोणों पर आप 1-1 आटे का दीपक कपूर की सहायता से जला दें. इतनी विधि कर लेने के बाद आप उस त्रिभुज के अंदर लाल वस्त्र बिछा दें और उस लाल वस्त्र के चारों कोनों पर आप पीले चंदन से अपने प्रेमी का नाम लिख दें. तत्पश्चात आप चमगादड़ के पंख पर लाल सिंदूर से इस मंत्र को लिख दे.

मंत्र…. ॐ श्रीं औं औं औं क्लीं क्लीं ( प्रेमी का नाम ) मम वश्यं कुरु कुरु स्वः

मंत्र लिखने के बाद आप उस चमगादड़ के पंख को लाल कपड़े के बीच में रख दें और उस पंख पर सरसों के तेल की 108 आहुति देते हुए अपने प्रेमी का नाम मन ही मन पुकारे और जब यह साधना पूर्ण हो जाए तो आप इस संपूर्ण सामग्री को लाल वस्त्र में बांधकर अपने प्रेमी के घर के बाहर रख आए और आटे के दीपक को आप किसी चलते पानी में विसर्जित कर दें. यदि आप यह टोटका मंत्र सहित श्रद्धापूर्वक करेंगे तो आपके प्रेम विवाह में आने वाली सभी बाधाओं का नाश हो जाएगा और आपको प्रेम विवाह में सफलता मिलेगी.

सामग्री…..
कौवे के पंख
प्रेमी का वस्त्र
कलावा
लाल सिंदूर
मिट्टी के दीपक 04
सरसों का तेल
कच्चा दूध
इत्र

तांत्रिक विधि____ माह के तीसरे शनिवार के दिन आप कौवे का पंख घर लाकर उसे कच्चे दूध की सहायता से धो लें और इस पंख को आप अपने प्रेमी के वस्त्र में कलावे की सहायता से बांध लें. इसके बाद आप किसी चौराहे पर जाकर लाल सिंदूर की सहायता से एक गोलाकार आकृति बना ले और उस आकृति के मध्य में आप इस वस्त्र व पंख को रख दें एवं उसके समीप मिट्टी के चार दीपक सरसों के तेल की सहायता से जला दें. इसके पश्चात आप नीचे दिए गए मंत्र को 751 बार उच्चारण करें.

मंत्र….. ॐ वयं वयं वयं ह्रीं श्रीं ऐं ह्रीं बेतालसिद्धिः ह्रुं ह्रुं ह्रुं नमो नमः

मंत्र का विधिपूर्वक जाप कर लेने के बाद आप प्रेमी के वस्त्र पर इत्र की आहुति देते हुए उस वस्त्र में से आप कौवे के पंख को बाहर निकाल ले और उस पंख को आप अपने प्रेमी के घर के अंदर फेंक दें और वापस अपने घर में आ जाए लेकिन आपको वापस आते समय पीछे मुड़कर कदापि नहीं देखना है. यदि आप इस टोटके को श्रद्धा पूर्वक करेंगे तो यह प्रेम विवाह करने का अचूक टोटका माना गया है जो कभी निष्फल नहीं हो सकता.

सामग्री…..
मिट्टी की हांड़ी
लाल चंदन
प्रेमी के पांव की मिट्टी
काला कपडा
कोयले 07
सफ़ेद कपडा
मिट्टी के दीपक 04
सरसों का तेल
लवंग 16

विधि____ अमावस्या की रात्रि में आप एक मिट्टी की हांड़ी की व्यवस्था कर ले और उस मिट्टी की हांडी के बाहर की तरफ आप लाल चंदन की सहायता से अपने प्रेमी का नाम तथा उसकी जन्मतिथि लिख दें. इतनी विधि कर लेने के बाद आप अपने प्रेमी के पांव की मिट्टी को काले कपड़े में बांध कर उस मिट्टी के हांड़ी के अंदर रख दें और 07 कोयले लेकर उन कोयलों के ऊपर आप अपना नाम एवं जन्मतिथि लिख दें और इन सभी कोयलों को आप उस हांडी के अंदर रख दें. इसके बाद आप इस हांडी के मुख हो सफेद रंग के कपड़े से बांधकर किसी बरगद के पेड़ के नीचे ले जाकर रख दें और उस हांडी के चारों तरफ चार मिट्टी के दीपक सरसों के तेल की सहायता से जला दें और नीचे दिए गए मंत्र का 151 बार जाप करें.

मंत्र….. ॐ ऐं ह्रीं क्लीं ठः ठः ठः मिलिताशेषु यक्षिणी फट स्वः

मंत्र का विधिपूर्वक जाप करने के बाद आप 16 लवंग लेकर उन चारों मिट्टी के दीपक में अपने प्रेमी का स्मरण करते हुए डाल दें और अपने प्रेम विवाह की कामना करते हुए अपने घर को वापस लौट आए. यह विधि प्रेम विवाह करने की अचूक विधि मानी गई है. जिसके उपयोग मात्र से कोई भी व्यक्ति अपने प्रेम विवाह के मार्ग में आने वाले सभी समस्याओं का निराकरण स्वयं कर सकता है.

यदि आप भी झूठे और नकली तांत्रिकों के बहकावे में आकर अपने समय और धन की हानि कर चुके है तो आप हमारे आश्रम में सम्पर्क करें जहाँ पर आपके कार्य को शत प्रतिशत निशुल्क किया जायेगा तो अभी हमसे जुड़िये_____ अघोरी गुरु जी ( +91-9529528500 )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *