वैवाहिक जीवन में कलह निवारण हेतु उपाय

1. वैवाहिक जीवन में कलह निवारण हेतु उपाय, “एक राम और सीता की बड़ी तस्वीर घर में लेकर आए और उसे दीवार पर लगाएं, फिर जब भी आपमें झगड़ा हेा तो कम से कम 5 मिनट तक बिल्कुल चुप होकर उस तस्वीर की तरफ देखते रहें और मन में विचार करें कि हमारा विवाहित जीवन भी इन दोनों के समान आत्मसूर्पण भाव से युक्त हो – अपने आप आपकी समस्या दूर होने लगेगी ।
2. ज्यादातर औरतें अपनी सास से बैर रखती हैं अथवा उन्हें सास ही ऐसी मिलती है कि सइ उससे बैर रखती है। अर्थात् औरत ही औरत की शत्रु बन जाती हैं। इस परिस्थिति में पुरुष त्रिशंकु बन जाता है और किसकी तरफ जाए यह सोचकर परेशान हो जाता है इस परिस्थति से बचने के लिए बृहस्पतिवार के दिन भोजपत्र पर गायत्री मंत्र चंदन से लिखें और उसके 2 ताबीज बनाकर पीले कपड़े में एक अपनी माता के और एक पत्नी के दांयी भुजा पर बांध दें ।
3. रोज एक तांबे के लोटे में जल भरें और पहले अपनी माता के हाथ से तथा बाद में पतनी के हाथ से उसे स्पर्श कराकर तुलसी के पौधे में डाल दें। रविवार को नहीं डालें ।
4. रोज एक रोअी में गुड़ और चने डालकर शाम को अपनी माता व पत्नी से स्प्र्श कराकर शाम को गाय को दें।
5. रोज दो तुलसी के पते पानी से धोकर पूजा में रखें और 21 बार गायत्री मंत्र पढकर एक पता माता को व एक पत्नी को खिलाए ।
6. सास बहू की कलह से परेशान हैं तो रोज सुबह अपने मटके में जहां पीने का पानी हो, उमसें 2 बूंद गंगाजल गायत्री मंत्र पढ़ते हुए डाल दें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *